Publisher Theme
I’m a gamer, always have been.

21 जून विश्व योग दिवस पर हमारे लीड दिल्ली के संवाददाता गिरधारी लाल शर्मा जी की ऋषिकेश से विशेष कवरेज।

भारत में सदियों से योग परम्परा चली आ रही हैं जिसका स्वास्थ्य लाभ भारत के उन लोगों ने सदैव लिया जिन्होंने सकारात्मक दृष्टिकोण से योग को अपनी जीवन चर्या का अभिन्न अंग बनाया. हमारी संस्कृति वसुधैव कुटुम्बकम् की अवधारणा में यकीन रखती हैं. समूचे विश्व को हमने अपना परिवार माना है. हमारे पुरखों की देन चाहे वो आयुर्वैदिक चिकित्सा रही हो या योग हमने संसार को इससे परिचित करावाया है ताकि वे भी इससे लाभान्वित हो सके.
इतने वर्षों तक पश्चिमी दुनिया और यूरोपीय देश योग से अपरिचित थे. इसकी बड़ी वजह इसके प्रचार प्रसार में कमी तथा कई सारे भारतीयों का भी योग के बारे में नकारात्मक दृष्टिकोण का होना था. मगर पहली बार 21 जून 2015 को माननीय प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने योग दिवस को वैश्विक उत्सव के रूप में मनाने की पहल की.

यह तारीख हमारे सम्माननीय प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने प्रस्तावित की थी। ऐसा कहा जाता है कि इस दिन प्रथम योगी (आदि गुरु) ने मानव जाति को योगा का ज्ञान देना शुरू किया और पहले योगा गुरु बन गए।
बहुत से लोग सोचते हैं कि योगा क्या है और यह शारीरिक और मानसिक स्थिरता बनाए रखने में कैसे मदद कर सकता है? योगा शरीर और मन के मेल के लिए एक प्रक्रिया है या हम कह सकते हैं कि यह शरीर और मन के बीच स्थिरता बनाए रखने की एक प्रक्रिया है।
सबसे पहले यह समझना बहुत महत्वपूर्ण है कि योगा क्या है? यह शरीर और मन के बीच का जोड़ है या हम यह भी कह सकते हैं कि यह मन और शरीर के बीच संतुलन बनाने का एक तरीका है। योगा भारत में उत्पन्न हुआ था और इसलिए इसे “योगा” के रूप में दुनिया भर में जाना जाता है। आज योगा का ज्ञान और अभ्यास दुनिया भर में प्रसारित हो रहा है जो कि बहुत अच्छी बात है। योगा में हमें शरीर के कई आसनों के बारे में सीखने को मिलता है जैसे अपने आप को फिट रखने की क्रियाएँ उदाहरण के रूप में बैठना, खड़े होना, आगे झुकना, पीछे की तरफ झुकाव, उल्टे मुंह खड़े होना आदि है।
प्राचीन काल में योगा ज्ञान प्राप्त करने का एक तरीका था। उच्च तकनीक और व्यस्त जीवन की दुनिया में योगा हमारे शरीर के स्वास्थ्य और मन की मानसिक स्थिरता बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। इसमें शरीर की विभिन्न क्रियाएँ और आसन शामिल हैं जिन्हें संस्कृत में हम “आसन” कहते हैं। कुछ क्रियाएँ या आसन जटिल होते हैं इसलिए उनमें उचित निहितार्थ की आवश्यकता होती है

लोगों की विभिन्न समस्याओं को समाधान करने के लिए विभिन्न प्रकार की योगा क्रियाओं का गठन किया गया है। बहुत से लोग रोजाना योगा करते हैं इसलिए उन्हें योगा के कारण उनके शरीर और जीवन में होने वाले प्रभाव और सकारात्मक बदलावों का पता होता है। कोई भी प्रभाव तत्काल नहीं देखने को मिलता लेकिन अगर इसे दैनिक आधार पर किया जाता है तो सकारात्मक परिणाम दिख सकते हैं। जैसे सोना और भोजन करना हमारी जिंदगी का अभिन्न अंग है उसी तरह योगा भी हमारी ज़िंदगी का एक अभिन्न अंग बनना चाहिए।

योगा के लाभ अनंत हैं और इसमें कई बीमारियों का इलाज करने की क्षमता है। स्वस्थ रहने के लिए कई लोग आज की दुनिया में योगा का अभ्यास कर रहे हैं। वृद्ध लोग जो योगा का गहन अभ्यास नहीं कर सकते उनके लिए योगा एक बेहतरीन विकल्प साबित होता है। योगा में हम अपनी कठिनाई के आधार पर अलग-अलग मुद्राओं का अभ्यास करते हैं। हमें एक साधारण मुद्रा के साथ योगा शुरू करना चाहिए और फिर एक के बाद एक कठिन योगा क्रिया के साथ आगे बढ़ना चाहिए।

वायु प्रदूषण और ताजी हवा की कमी के कारण बहुत से लोग और यहां तक ​​कि छोटे बच्चे श्वसन समस्याओं का सामना करते हैं। योगा में कई तरह के व्यायाम शामिल हैं जो श्वसन समस्याओं का इलाज करने की क्षमता रखते हैं। यह न केवल श्वसन बल्कि हमारे पाचन तंत्र, पेट की समस्याओं, संयुक्त समस्याओं आदि से संबंधित कई अन्य बीमारियों को ठीक करने में मदद करता है। उदाहरण के लिए जोड़ों और मांसपेशियों को मजबूत करने के लिए “झुकाव क्रिया” की जाती है, हाथों और टांगों को मजबूत करने के लिए “संतुलन क्रिया” की जाती है और “बैठने वाली योगा क्रिया” लचीलेपन और मानसिक तनाव को कम करने के लिए की जाती है इसके अलावा इनमें और भी कई अन्य विभिन्न प्रकार की क्रियाएँ शामिल है।
कई योगा मुद्राओं में लचीलेपन की आवश्यकता होती है जैसे हल मुद्रा, सिंह मुद्रा, ऊपरी धनुष मुद्रा, मत्स्य मुद्रा आदि और बहुत से लोगों के पास अपने शरीर में पर्याप्त लचीलापन नहीं होता इसलिए कई अन्य योगा क्रियाएँ हैं जिनमें शरीर के लचीले होने की आवश्यकता नहीं पड़ती जिनमें पर्वत मुद्रा, कुर्सी मुद्रा, त्रिभुज मुद्रा आदि शामिल हैं। जैसे कि आपको पता है योगा मुद्राएँ अनगिनत है इसलिए योगा करने के लाभ भी अनगिनत है। योगा का अभ्यास करना बहुत फायदेमंद है और इसके अभ्यास में कई बीमारियां जैसे श्वसन समस्याएँ, पेट की समस्याएँ, पाचन तंत्र से संबंधित बीमारियों का इलाज करने की क्षमता है।

यह हमारे शरीर से नकारात्मकता और मानसिक रोगों को दूर करने में मदद करता है। यह तनाव स्तर को कम करने और जागरूकता बढ़ाने में मदद करता है। विशेष रूप से बच्चों के लिए यह एकाग्रता शक्ति और फोकस के निर्माण में मदद करता है। यह कहा जा सकता है कि यह श्वसन समस्याओं का इलाज करने के लिए एक सर्वोत्तम दवा है तथा पेट में दर्द और संक्रमण जैसे बीमारियों के लिए भी मददगार है। यह व्यक्ति की छवि को सुधारने में भी मदद करता है क्योंकि स्वचालित रूप से यदि कोई व्यक्ति रोग मुक्त है तो वह अच्छा और स्वस्थ दिखेगा।

अतः आज इस वैश्विक महामारी से भी बचने के लिए हम सभी को अपने जीवन मे योग को अवश्य ही अपनाना चाहिए।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

Open chat
Need Help?
%d bloggers like this: