Publisher Theme
I’m a gamer, always have been.

जानिए कौन है 70 से अधिक मुकदमों में वांछित कुलदीप उर्फ फज्जा, डीयू का पढ़ा कैसे बन गया इनामी बदमाश

दिल्ली पुलिस की पकड़ से इनामी बदमाश कुलदीप उर्फ फज्जा को उसके साथी छुड़ाकर ले जाने में कामयाब हो गए। इस घटना के बाद से पुलिस महकमे में हड़कंप मचा हुआ है। ऐसा नहीं है कि कुलदीप कोई ऐसा वैसा अपराधी है। कुलदीप पर दिल्ली एनसीआर में 70 से अधिक मुकदमे दर्ज हैं। दिल्ली से कुलदीप का पुराना नाता है। बाहरी दिल्ली के इलाके में उसके साथ नई उम्र के काफी लड़के जुड़े हुए हैं।

पुलिस की मानें तो यह गैंग दिल्ली के कई गैंगवार में शामिल रहा है, मोस्टवांटेड गैंगस्टर जितेंद्र मान उर्फ गोगी के साथ पकड़े गए बदमाशों के नाम कुलदीप मान उर्फ फज्जा, रोहित उर्फ मोई और कपिल उर्फ गौरव शामिल थे। कुलदीप मान पर भी पुलिस ने 2 लाख का इनाम रखा था। कुलदीप दिल्ली यूूनिर्वसिटी से ही पढ़ा लिखा है। ऐसा नहीं है कि कुलदीप शुरू से ही अपराधी प्रवृत्ति का था। मगर संगत की वजह से वो अपराध की दुनिया में पहुंच गया।

दिल्ली पुलिस की मानें तो बदमाश कुलदीप दिल्ली विश्वविद्यालय से बीएससी की पढ़ाई कर चुका है। कॉलेज के दिनों में ही वह कुख्यात बदमाश जोगेंद्र के संपर्क में था और फिर धीरे-धीरे वह गैंग का अहम सदस्य बन गया। पढ़ाई पूरी करने के बाद कुलदीप कुख्यात बदमाश जोगेंद्र के साथ अपराध की घटनाएं अंजाम देने लगा। वह विरोधी गिरोह के कई बदमाशों पर अब तक जानलेवा हमला कर चुका है।

कुलदीप ने साल 2013 में सुनील मान नामक एक व्यक्ति को पीट-पीट कर अधमरा कर दिया था। इसके अलावा 2014 में उसने अलीपुर इलाके में विरोधी गिरोह के सदस्य विकास पर भी गोली चला दी थी। कुलदीप ने जनवरी, 2015 में बवाना के एक कारोबारी से आई-20 कार लूटी थी। फिर 21 जनवरी को आजादपुर सब्जी मंडी के पास विरोधी गिरोह के सदस्य दीपक उर्फ राजू की गोली मारकर हत्या कर दी थी। आरोप है कि कुलदीप, जोगिंदर व उनके साथी जरनैल ने इस वारदात को अंजाम दिया था।

इससे पहले वर्ष 2015 में हत्या एक मामले में फरार चल रहे 75 हजार के इनामी बदमाश कुलदीप उर्फ फज्जा को अलीपुर पुलिस ने गिरफ्तार किया था। कुख्यात गैंगस्टर जोगिंद्र उर्फ गोगी का शार्पशूटर कुलदीप ने आजादपुर मंडी के पास एंटी गिरोह के एक सदस्य की गोली मारकर हत्या कर दी थी। इसी में वह गिरफ्तार हुआ था।कुलदीप के साथ नई उम्र के लड़के जुड़े हुए हैं। पुलिस का मानना है कि कुलदीप के साथियों को उसके अस्पताल में आने की पहले से सूचना थी, इसी वजह से वो सब तैयारी के साथ आए थे। यहां पहले से वो घात लगाए थे, जब कुलदीप अंदर पहुंचा तो उसको छुड़ाने का दुस्साहस किया गया। पुलिस आसपास के इलाके में लगे सीसीटीवी कैमरे खंगाल रही है और उसके ठिकानों पर छापेमारी की जा रही है। सर्विलांस की भी मदद ली जा रही है।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

Open chat
Need Help?
%d bloggers like this: